mutiual funds

MUTUAL FUNDS : 

इसमें कई निवेशक का पैसा एक जगह जमा करके इसमें बाजार में निवेश किया जाता है | Mutual Funds का नियंत्रण AMC (एसेट मैनेजमेंट कंपनियों ) द्वारा किया जाता है | सभी AMC में बहुत म्यूच्यूअल फंड्स स्कीम होते है | म्यूच्यूअल फंड्स के किसी प्लान में निवेश करने का फायदा यह है की आपको किसी ब्रोकर को कमिशन नहीं देना पड़ता  है |

म्यूच्यूअल  फंड्स में निवेश कैसे करे ? 

Mutual Funds में निवेश करने का सबसे आसान तरीका आप म्यूच्यूअल फंड्स के वेबसाइट पर जाकर कर सकते है | अगर आप इसके बारे में सही से नहीं जानते और निवेश करने से डरते है तो आप किसी Mutual Funds Adviser की सलाह ले सकते है | लेकिन जब आप किसी adviser की सहायता से निवेश करते है तो आप म्यूच्यूअल फंड्स के रेगुलर स्कीम में इन्वेस्ट करते है |

ऑफलाइन म्यूच्यूअल फंड्स में निवेश के लिए जरूरी बाते :  

सबसे पहले आपको अपने पहचान के लिए KYC करानी पड़ेगी | इसमें आपको अपना पहचान आधार कार्ड या पैन कार्ड जमा करना पड़ेगा | जब आपका KYC पूरा हो जायेगा तब आपको म्यूच्यूअल फंड्स के स्कीम चुनने और भुक्तान के लिए आवेदन करना होगा | 
भारत में 4 प्रकार के म्यूच्यूअल फंड्स है |

१. इक्विटी म्यूच्यूअल फंड्स : 

इस स्कीम में निवेशकों का  पैसा सीधे निवेश शेयर करती है | यह स्कीम लम्बे अवधी के लिए बहुत फायेदेमंद है लेकिन छोटे अवधी के लिए ये स्कीम जोखिम भरी हो सकता है | इसमें निवेश की कम से काम अवधि १० साल होना चाहिए |

२.  डेट म्यूच्यूअल फंड्स : 

यह स्कीम डेट सिक्योरिटीज में निवेश करती है अगर आप कम अवधि के लिए निवेश करना चाहते है तो यह आपके लिए बेहतर स्कीम है | यह स्कीम बैंक के फिक्स डिपोसिट से भी ज्यादा रिटर्न देती है | इसमें 5 साल से काम अवधि के लिए निवेश कर सकते है |

३. हाइब्रिड म्यूच्यूअल फण्ड : 

यह स्कीम डेट और इक्विटी दोनों में निवेश करती है इस स्कीम में भी आपको जोखिम उठाना पद सकता है | इसमें भी 5 साल के लिए निवेश करना ठीक है |

४. सॉलूशन ओरिएंटेड स्कीम : 

इस स्कीम के अंतर्गत RETIRMENT स्कीम , बच्चे के शिछा जैसे आते है | इस स्कीम में आपको 5 साल के लिए निवेश करना अनिवार्य है |

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here